महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

बुधवार, 20 नवंबर 2019

महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi

महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi

महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi

महिलाओं की यौन समस्याएं

#महिला यौन समस्याओं के इलाज के तरीके - Female Sexual Dysfunction Treatment in Hindi
#महिला यौन समस्याओं की घर पर स्वयं देखभाल- Self-care of women sexual problems at home
#महिलाओं की यौन समस्याओं की रोकथाम - Prevention of Female Sexual Problems in Hindi
#महिलाओं की यौन समस्याओं की रोकथाम - Prevention of Female Sexual Problems in Hindi
#महिलाओं की यौन स्वास्थ्य समस्याएं और समाधान- Women's Sexual Health Problems and Solutions
#क्या मेडिटेशन से बेहतर हो सकती है महिलाओं की सेक्स लाइफ- Can women's sex life be better than meditation

यौन समस्याएं महिलाओं की आम समस्याऐं हैं। एक अनुमान के अनुसार युवा और मध्यम आयु की लगभग 1/3 महिलाओं और अधिक उम्र की आधी से ज्यादा महिलाओं में यौन समस्याएं पायी जातीं हैं।

महिलाओं में पायी जाने वाली मुख्य यौन समस्याऐं इस प्रकार हैं

महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi
यौन इच्छा समाप्त या उत्तेजना का अभाव
  • यौन इच्छा समाप्त या उत्तेजना का अभाव:- अक्सर महिलाओं में यौन इच्छा की कमी या सैक्स ड्राइव की कमी पायी जाती है। और पुरुषों को इस बारे में बाते करते सुना जाता है। यौन इच्छा या सेक्स ड्राइव की कमी अक्सर कामेच्छा के अभाव के रूप में वर्णित की जाती है और कई महिलाएं विभिन्न प्रकार के लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं। यौन उत्तेजना की कमी का परिणाम योनि में लुब्रिकेशन की कमी, संबंधों में ठंडापन, चिंता या ख़राब स्वास्थ्य के रूप में सामने आ सकता है।
यौन इच्छा की कमी और यौन उत्तेजना की कमी अक्सर एक साथ होते हैं। एक का इलाज कराने से  ज्यादातर मामलों में दूसरे में सुधार करता है।
जरुरी है कि आप अपने चिकित्सक को उन सभी लक्षणों के बारे में बताऐं जिनको मरीज़ महसूस करता हैं, जिससे चिकित्सक मरीज का इलाज ठीक प्रकार से कर सके।

  • चरम-सुख (ओर्गास्म) प्राप्त करने में समस्याएं:- यह समस्या ज्यादातर महिलाओं में पायी जाती है   इसमें कभी भी चरम-सुख (ओर्गास्म) न प्राप्त करना, ओर्गास्म में देरी या ओर्गास्म की अनियमितता और ओर्गास्म संवेदनाओं न प्राप्त कर सकना को शामिल किया जाता है। हालाँकि, बहुत सी महिलाओं को सेक्स का आनंद प्राप्त करने के लिए ओर्गास्म(चरम-सुख) प्राप्त करने की ज़रूरत नहीं होती है लेकिन कुछ महिलाओं और उनके यौन सहयोगी के लिए यह समस्या हो सकती है।
महिलाओं की यौन समस्याओं (रोग) के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान - Mahilaon ke yaun rog ke prakar, lakshan, karan, ilaj aur upay in Hindi
महिलाओं में सेक्स के दौरान या बाद में दर्द
  • सेक्स के दौरान या बाद में दर्द:- कुछ महिलाओं को सेक्स के दौरान दर्द की समस्या हो जाती है यह योनि में लुब्रिकेशन(गीलेपन) की कमी के कारण और प्रवेश से पहले सही प्रकार से फोरप्ले न करने के कारण हो सकता है। ध्यान रखें यह एक समस्या भी बन सकती है और एक महिला यौन संबध बनाने या सेक्स का आनन्द लेना मजबूरी में बंद कर सकती है।
महिलाओं की यौन समस्याओं के कारण (Cause of Female sexual problems in hindi----मानव में यौैन समस्याओं के कारण अलग अलग व जटिल होते हैं। कुछ समस्याऐं साधारण प्रतिवर्ती शारीरिक समस्या से जुड़ी हो सकती है तो अन्य अधिक गंभीर रोगों का परिणाम भी हो सकती हैं। इसके अलावा जीवन चर्या का भी इस पर एक गहन प्रभाव पड़ता है। आपकी मानसिक स्थितियाँ परिस्थितियाँ भी किसी सैक्स समस्या का कारण हो सकती है। और देखा जाऐ तो यह कहीं ज्यादा देखा जाता है कि व्यक्ति की सैक्स समस्याओं का कारण मानसिक स्थिति ज्यादा होती है। मनुष्य के मन की भावनाऐं भी इन रोगों पर प्रभाव डालती हैं।कई प्रकार की शारीरिक या चिकित्सकीय स्थितियां महिला के यौन जीवन में संतुष्टि को कम कर सकती हैं।
ऐसी कुछ समस्याएं निम्नलिखित हैं:-

  • थकान के अलावा गंभीर बीमारियां जैसे मधुमेह, हृदय रोग, यकृत रोग,किडनी रोग,कैंसर, तंत्रिका संबंधी विकार,संवहनी (रक्त प्रवाह) विकार,हार्मोनल असंतुलन,रजोनिवृत्ति,गर्भावस्था इत्यादि का आपके सैक्स जीवन पर बहुत ही गहरा प्रभाव होता है।
नोट --- यौन समस्या का मूल्यांकन करने  के लिए चिकित्सक को एक व्यापक चिकित्सा साक्षात्कार करना जरुरी होता है। और इसमें रोगी व उसके यौन पार्टनर को भी पूर्णतः सहयोग करना चाहिए उन्हैं अपने डॉक्टर को किसी भी प्रकार की मेडिकल या मानसिक बीमारी, हाल ही में या पहले कभी हुई सर्जरी और कोई भी दवाई जैसे ओवर-द-काउंटर ड्रग्स, जड़ी-बूटियां या सप्प्लिमेंट्स ले रहे हैं, तो इसके बारे में अवश्य ही बताना चाहिऐ।

चिकित्सक आपका एक पूर्ण शारीरिक परिक्षण भी कर सकता है। आपकी समस्या किस प्रकार की है इसको ध्यान में रखते हुए, आपका चिकित्सक पेैल्विक परिक्षण भी कर सकता है या परिक्षण के  लिए आपको एक स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास भी भेज सकता है।इसके अलावा कुछ अन्य प्रकार की समस्याओं या रोगों के कारण, अन्य विशेषज्ञों के साथ भी आपको परामर्श की आवश्यकता  हो सकती है या हो सकता है कि एक सैक्स स्पेशलिस्ट आपको किसी अन्य डाक्टर के पास भेज दे जिससे कि उसे आपके किसी अन्य रोग के कारण सैक्स के मामले में होने वाली समस्याओं का निदान पाया जा सके।

ज्यादातर मामलों में प्रयोगशाला परीक्षणों की ज़रूरत नहीं होती है, हालांकि आपका डॉक्टर रोगों के निदान के लिए व आपके हार्मोन के स्तरों की जांच के लिए आपसे ब्लड टैस्ट व ऐक्सरे व अन्य रेडियोलॉजी परीक्षणों के लिए कह सकता है। जैसी समस्या वैसा निदान और उसी अनुरुप इलाज यही सबसे उत्तम सिद्दान्त है। आपका डॉक्टर या परामर्श विशेषज्ञ उचित उपचार योजना का सुझाव देगा। यह निश्चित रूप से समस्या की प्रकृति के आधार पर अलग अलग  होगा। इस योजना में औषधि,  आपकी जीवन शैली में परिवर्तन या शल्य चिकित्सा शामिल हो सकती है। आपका डॉक्टर सैक्स रोगों की स्थिति में काउन्सलिंग करवाने की सलाह भी दे सकता है भले ही समस्या शारीरिक हो।
  • ड्रग ट्रीटमेंट्स:- महिलाओं की सेक्स समस्याओं के उपचार के लिए औषधियाँ भी मिलती हैं। अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार मार्केट में उपलब्ध औषधियों का उपयोग किया जा सकता हैं। कई बार मधुमेह या अवसाद जैसी समस्याऐं भी सेक्स रोगों का कारण होते हैं अतः इनका इलाज करने से भी यौन समस्याओं में राहत मिल सकती है
  • सेक्स थेरेपी :- इस थेरेपी में रोगी व्यक्ति या दंपति अपने यौन समस्याओं का आकलन करने और उपचार करने के लिए एक अनुभवी चिकित्सक के साथ सम्पर्क करके उनके निर्देशों का पालन करते हैं। साथ में वे उन कारकों की पहचान करते हैं, जो समस्या को गति प्रदान कर रहें हैं। इन कारकों के प्रभाव को हल करने या कम करने के लिए एक विशिष्ट उपचार कार्यक्रम तैयार करते हैं। सेक्स थेरेपी का उपचार के अन्य उपचारों के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • योनि लुब्रिकेंट्स और मॉइस्चराइजर्स:- योनि का सूखापन एक समस्या है, तो यह लुब्रिकेंट्स और मॉइस्चराइजर्स के प्रयोग से बेहतर हो सकती है। यौन संभोग के समय योनि लुब्रीकेंट का उपयोग किया जाता है। ये अलग-अलग प्रकार में उपलब्ध हैं जैसे- तेल आधारित, पानी आधारित, सिलिकॉन आधारित इत्यादी। अपने डॉक्टर के परामर्श के अनुसार या जो आपके लिए उचित हो ऐसे लुब्रीकेंट का उपयोग कर सकते हैं।
 योनि मॉइस्चराइजर योनि में नमी बनाए रखने में मदद करते हैं। इनको नियमित रूप से और सेक्स से कम से कम 2 घंटे पहले उपयोग किया जा सकता है। वे ओवर-द-काउंटर या प्रेस्क्रिप्शन पर उपलब्ध हैं। कृपया अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • एस्ट्रोजेन:- रजोनिवृत्ति के बाद और मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि के आघात के बाद एस्ट्रोजेन का स्तर  गिरता है  (आमतौर पर सिर की चोट, अवजालतनिका (सुबरचनोइड) रक्तस्त्राव या सिर पर विकिरण के कारण यह स्थितियाँ पैदा होती हैं)। एस्ट्रोजेन प्रतिस्थापन या तो व्यवस्थित रूप से पूरे शरीर में स्तर बढ़ाने के लिए या योनि में केवल इस क्षेत्र में स्तर बढ़ाने के लिए दिया जा सकता है।
  • टेस्टोस्टेरोन:- महिलाओं में, टेस्टोस्टेरोन अण्डाशय और अधिवृक्क ग्रंथियों में स्वाभाविक रूप से पैदा होता है, और यह महिला यौन प्रक्रियाओं से जुड़ा हुआ है। यौन इच्छाओं में कमी टेस्टोस्टेरोन के स्तरों में गिरावट के साथ जुड़ी हो सकती है। जब एक महिला के अंडाशय को शल्यचिकित्सा (ऊ-फॉरेक्टमी) से हटा दिया जाता है, तो टेस्टोस्टेरोन का स्तर अचानक गिरता है। 
  • Tibolone (Livial®):- ये अक्सर हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (HRT) के एक प्रकार के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। यह मानव-निर्मित स्टेरॉइड है जिसमें महिला हार्मोन एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के साथ-साथ टेस्टोस्टेरोन भी हैं। यह गर्म फ़्लशेस जैसे रजोनिवृत्ति के लक्षणों में सुधार कर सकता है और कामेच्छा या सेक्स ड्राइव की कमी में सुधार कर सकता है।
  • मनोचिकित्सा:- यदि समस्या जानकारी की कमी के कारण है, तो आपका सेक्स चिकित्सक आपको यौन प्रतिक्रिया चक्र और यौन उत्तेजना के तत्वों के बारे में (और आपके साथी को) जानकारी दे सकते हैं। यह नया ज्ञान कई जोड़ों को अपने संबंधों को सही ढंग से आगे बढ़ने में मदद प्रदान कर सकता है। मनोचिकित्सा सही रुप में एक महिला को उसके जीवन में यौन समस्याओं की पहचान करने में सहायता कर सकती है
  • महिला यौन समस्याओं की घर पर स्वयं  देखभाल:-   सभी यौन समस्याऐं ऐसी नहीं होती जिनके लिए उपचार की ही आवश्यकता हो अपितु कुछ समस्याओं को तो आप और आपके साथी द्वारा अकेले खुलकर और रचनात्मक ढंग से बाते करके ही हल कर सकते हैं। कुछ समस्याएं समय के साथ खुद व खुद ही दूर हो जाती हैं। - आपको बस धैर्य और सावधानी से समझने की ही आवश्यकता है।कभी-कभी आपके साथी के साथ समस्या की चर्चा करना ही पर्याप्त होता है। जो महिलाएं अपने पार्टनर को अपनी यौन जरूरतों के बारे में बताना सीख जाती हैं, वे एक संतोषजनक यौन जीवन जी सकती हैं।
समाधान को मज़ेदार बनाने का प्रयास करें - अपने यौन दिनचर्या में थोड़ा रोमांस और उत्तेजना लाने के तरीके सोचें। कुछ तरीके जो यौन समस्याओं पर काबू पाने में महिलाओं की मदद कर सकते हैं:-
  • बच्चे और अन्य विकर्षण के बिना अपने साथी के साथ अकेले रहने के लिए अलग-अलग समय निर्धारित करें।उत्तेजना बढ़ाने के लिए कामुक वीडियो या पुस्तकों का उपयोग करें।
  • अपनी कामोत्तेजना को बढ़ने के बारे में जानने के लिए हस्तमैथुन करें।
  • जो आपको यौन उत्तेजित करता है उसके बारे में कल्पना करें। यदि उचित हो, तो अपने साथी को इन कल्पनाओं के बारे में बताएं।
  • कामुक मालिश और स्पर्श के अन्य रूपों का उपयोग करें।
  • नई सेक्स स्थितियों या परिदृश्यों की कोशिश करें।
  • सेक्स करने से पहले गर्म स्नान जैसी विश्राम की तकनीक का उपयोग करें।
  • योनि के सूखापन के कारण उत्तेजना की समस्याओं को दूर करने के लिए योनि लुब्रीकेंट का प्रयोग करें।
  • कई उत्कृष्ट पुस्तकें बुकस्टोर्स या ऑनलाइन स्रोतों पर यौन और आपसी बातचीत की समस्याओं से निपटने में मदद करने के लिए उपलब्ध हैं। आप इनकी भी मदद ले सकती हैं।

"महिलाओं-की-यौन-समस्याओं-की-रोकथाम-prevention-of-female-sexual-problems-in-hindi"

महिलाओं की यौन समस्याओं की रोकथाम - Prevention of Female Sexual Problems in Hindi


यौन समस्याओं से बचने या ठीक करने के लिए आप सबसे महत्वपूर्ण काम यह कर सकते हैं कि अपने साथी के साथ खुलकर और ईमानदारी से संवाद करें।
सम्पूर्ण स्वास्थ को बढ़ावा देने के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाना आपके आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान को बढ़ाएगा, जो यौन संबंधों में आपकी रुचि और आपकी प्रतिक्रियाएं को बढ़ाएगा। आप निम्नलिखित सुझाव अपना सकते हैं:-
  1. एक स्वस्थ आहार खाएं।
  2. तम्बाकू का प्रयोग न करें।
  3. प्रत्येक दिन कम से कम 30 मिनट के लिए शारीरिक रूप से सक्रिय रहें अर्थात व्यायाम करें।
  4. प्रयाप्त आराम करें।
  5. तनाव नियंत्रण में रखें।
  6. यदि आप शराब पीते हैं, तो कम मात्रा में पिये।
  7. नियमित रूप से सिफारिश की गई स्वास्थ्य जांच जैसे पैप टेस्ट और मेमोग्राम करवाएं

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner